इमरजेंसी पर रिपोर्टिंग कर रहे दो भारतीय पत्रकार गिरफ्तारवरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री मुजफ्फर हुसैन का मुंबई में निधनपत्रकार ज्योतिर्मय डे हत्या मामले में राजन ने कहा, मुझे फंसाया गयावरिष्ठ पत्रकार वेदप्रकाश शर्मा का निधनइन चार पत्रकारों ने कहा, कम कर दो सेलरीपत्रकार हत्याकांड : सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट दायर करने के लिए सीबीआई को दिया दो हफ्ते का वक्तवरिष्ठ पत्रकार शेखर त्रिपाठी का निधनIFWJ expresses shock over NDTV’s move of retrenching employeesZee Media launches a new channel680 FM चैनलों की नीलामी को मंजूरीवरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार को.रामनाथ गोयनका पुरस्कारछत्तीसगढ़ ने गिरफ्तार किए सबसे ज्यादा पत्रकारपत्रकार राजेश श्योराण की हत्या की जांच एसआईटी कोपत्रकार की पिटाई के मामले में कोतवाल निलम्बितवसूली के आरोप में कथित पत्रकार गिरफ्तारपंजाब में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां की हत्यासड़क हादसे में टीवी चैनल के संवाददाता और कैमरामैन की मौतएनडीटीवी ने की आधिकारिक घोषणा, 'चैनल बिकने की खबर कोरी अफवाह'एशियानेट टीवी के कार्यालय पर हमला, संपादक और रिपोर्टर बाल-बाल बचेखबर लिखने के कारण हुई थी पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या : सीबीआई पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या, पीछे से हमला किया, अगवा किया, चाकू से मार डालाएनडीटीवी के मालिक होंगे स्‍पाइजेट के अजय सिंहआईनेक्स्ट को मनीष कुमार ने कहा अलविदापत्रकार गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्यासमाचार TODAY को चाहिए स्क्रिप्ट राइटर/कॉपी एडिटरदबंग दुनिया जबलपुर में मची भागमभाग और अफरा तफरीअब फिल्मिनिज्म डॉट कॉम पर पढिये फिल्मी दुनिया की ताजातरीन खबरें और गॉसिप्स मैक्सिको में एक और पत्रकार की हिंसाग्रस्त राज्य वेराक्रूज में गोली मारकर हत्या ‘लॉस एंजिलिस टाइम्स’ से कईयों की छुट्टी फर्जी पत्रकार बन करता था ठगी, धरा गया पत्रकार के निधन पर शोक सभापत्रकार पंकज खन्ना आत्महत्या मामला- गुज्जर के बाद सह आरोपियों की सजा भी सस्पैंडपत्रकार शोभा डे ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का मजाक उड़ायाअडानी समूह की कंपनी ने की 1500 करोड़ की हेराफेरी और टैक्‍स चोरीपत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में सीबीआइ के आवेदन को कोर्ट ने किया खारिजवरिष्ठ पत्रकार गोपाल असावा का ह्दयाघात से निधनमजीठिया वेजबोर्ड का फैसला आपके हक में19 जून को आएगा मजीठिया वेजबोर्ड का फैसलालुधियाना प्रैस क्लब के चुनाव 25 जून कोभास्कर दिल्ली में अगस्त तक, यूपी में भी इंट्रीन्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर ने लगाया शादी करने का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप विभूति रस्तोगी को ढूंढ रही है पुलिस, बलात्कार का है आरोपदैनिक जागरण के वरिष्ठ समाचार संपादक राजू मिश्र को रेड इंक अवॉर्डपुणे में टीवी पत्रकार से बदसलूकीशशि थरूर मानहानि मामले में अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट का नोटिसछत्तीसगढ़ को 17 साल बाद मिला अपना दूरदर्शन चैनलदैैनिक जागरण के मीडियाकर्मी पंकज कुमार के ट्रांसफर मामले को सुप्रीमकोर्ट ने अवमानना मामले से अटमुंबई में नवभारत के 40 मीडियाकर्मियो ने बनायी यूनियनदबंग के खिलाफ कई पूर्व संपादक भी केस करने को तैयार ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता से टारगेटेड जर्नलिज्म

संपादक नाम की संस्था तिरोहित हो रही है

धीरे-धीरे जल-जंगल और जमीन विकास की भेंट चढ़ते जा रहे हैं। आदिवासियों को विकास के नाम पर जंगलों से बेदख़ल किया जा रहा है। ऐसे में पूरी तरह से जंगलों
संपादक नाम की संस्था तिरोहित हो रही है धीरे-धीरे जल-जंगल और जमीन विकास की भेंट चढ़ते जा रहे हैं। आदिवासियों को विकास के नाम पर जंगलों से बेदख़ल किया जा रहा है। ऐसे में पूरी तरह से जंगलों पर निर्भर आदिवासियों को शहरों/कस्बों का रुख करना पड़ रहा है। अपनी ज़मीन और पर्यावरण से मजबूरन बिछड़ रहे इन आदिवासियों को न केवल तथाकथित पढ़े-लिखे लोग ही हिकारत की नज़र से देख रहे हैं, अपितु कॉर्पोरेट जगत के इशारे पर मीडिया भी उनके प्रति भेदभाव वाला रुख किए हुए है। इसके फलस्वरूप उनकी जीवनशैली, संस्कृति, रीति-रिवाज़ आदि दरक-दरक कर टूटते-बिखरते जा रहे हैं।

आदिवासियों से जुड़े ऐसे ही तमाम मुद्दों पर विकास संवाद ने हाल ही में 8वां राष्ट्रीय मीडिया संवाद आयोजित किया। मालवा की देहरी पर बसे ऐतिहासिक शहर चंदेरी में हुए इस तीन दिवसीय आयोजन का विषय 'आदिवासी और मीडिया' पर केंद्रित था। समागम में देशभर से बड़ी संख्या में पत्रकार, लेखक व अन्य बुद्धिजीवी वर्ग शामिल हुआ।

हम में मनुष्यत्व कम हो रहा है : पहले दिन मुख्य वक्तव्य आदिवासी लोक कला अकादमी के सेवानिवृत्त निदेशक कपिल तिवारी ने दिया। उन्होंने कहा कि आदिवासियों के साथ काम करते हुए मेरी ज़िंदगी का सबसे अच्छा समय गुज़रा है। विकास यक़ीनन आवश्यक है, लेकिन विकास के एवज में यदि आपका मनुष्यत्व कम हो रहा हो, तो यह बहुत ख़तरनाक है। विकास की इसी अंधी दौड़ के चलते पिछले 50 वर्षों में भारत विचार शून्यता की ओर गया है। हमें उन आदिवासियों के बारे में विचार करना चाहिए, जिन्हें राजनेताओं और नौकरशाहों ने सिर्फ अपनी-अपनी गरज़ से इस्तेमाल किया है।

हे योद्धाओं! ज़रा युद्ध विराम की घोषणा करो... : तिवारी ने कहा कि इन तथाकथित ज़िम्मेदारों ने आदिवासियों को इंसानों की तरह देखने की दृष्टि ही ख़त्म कर दी है। इस वर्ग को प्रारंभ से ही पिछड़ा व दयनीय मान लिया गया। इनकी इतनी दया ज़रूर रही कि इन्होंने आदिवासियों को पशु न मानते हुए, पशुओं से थोड़ा ऊपर माना। दरअसल, देखा जाए तो आदिवासियों में अथाह रचनाशीलता है। मगर हमने रचना का सम्मान करना छोड़ दिया है और काल का गुणगान करने लग गए। हम निरंतर युद्धरत् हैं, जबकि वे शांतिप्रिय और मर्यादाओं के बीच रहने वाले। हमने इस युद्ध में सारी मर्यादाएं पददलित कर दी हैं। अत: निवेदन है कि 'हे योद्धाओं! ज़रा युद्ध विराम की घोषणा करो, इतना न जीतो'। आदिवासी धर्मों को नहीं जानते, लेकिन धार्मिकता से जीते हैं। लोक को ध्यान में रखकर देखने से भारत ज़्यादा समझ में आता है। या तो इन्हें शास्त्र के रूप में जानें, या फिर लोक परंपरा के रूप में।




हम आदिवासियों के पक्ष में ईमानदारी से नहीं हैं : आउटलुक की एसोसिएट एडिटर, भाषा सिंह ने कहा कि आदिवासियों का बड़ा हिस्सा शहरों में मजदूरी कर रहा है। जिस तरह से मीडिया का बड़ा हिस्सा कॉर्पोरेट की गिरफ़्त में है, हम आदिवासियों के पक्ष में उतनी ईमानदारी से नहीं लिख पाते। उनकी अस्मिता ख़तरे में है। आदिवासियों की परंपराओं का गुणगान तो हम करते हैं, लेकिन उन्हें बचाने के लिए हम अपनी आवाज़ बुलंद नहीं करते। इसी के चलते आज आदिवासी अस्मिता ख़तरे में है, और हमें आदिवासी अस्मिता व पहचान को बचाना होगा।

सोची-समझी साजिश है आदिवासियों के खिलाफ़ : पत्रिका, डाउन टू अर्थ की अपर्णा पल्लवी ने राज़ फाश किया कि सोची-समझी साजिश के तहत पहले तो आदिवासियों को कर्ज़े में डुबाया जाता है, फिर उन्हें गुलाम बना लिया जाता है। वैसे तो आदिवासी बड़े आत्मीय होते हैं, उन्हें समझने के लिए सच्ची आत्मा की ही ज़रूरत होती है। इसके उलट जब हम उनसे आधिकारिक (ऑफीशियल) तौर पर बात करते हैं, तो वो सख़्त (रिजिड) हो जाते हैं। इसमें उनकी मासूमियत ही तो छुपी होती है।

हम स्वयं असभ्य, उन्हें सभ्य बनाने चले : दैनिक समाचार पत्र 'कल्पतरु' आगरा के संपादक अरुण त्रिपाठी ने इज़हार किया कि आदिवासियों में भय पैदा किया गया है। हमने उनमें हीनता बोध पैदा किया है, जबकि यह बोध तो हममें होना चाहिए। उनके संसाधनों को बड़े ही व्यवस्थित तरीके से लूट रहे हैं हम। वास्तव में हमने उन्हें समझा ही नहीं और जब तक हम उन्हें समझेंगे ही नहीं, उनके लिए लिखेंगे क्या? अचरज वाली बात यह है कि हम तथाकथित लोग ख़ुद असभ्य होकर आदिवासियों को सभ्य बनाने में लगे हैं। उन्हें समझना है, तो लोकतांत्रिक तरीके से ही समझना होगा।




विकास की अवधारणा समाज को स्वीकार्य हो : स्वतंत्र मिश्र ने दहला देने वाली जानकारी दी कि उड़ीसा में क़रीब 40 हज़ार ऐसी मांएं हैं, जिनकी शादी नहीं हुईं। ऐसे में अब 98 प्रतिशत लड़के ऐसी लड़कियों से शादी करने को तैयार नहीं हैं। सच तो यह है कि विकास की अवधारणा ऐसी होना चाहिए, जो सर्व समाज को स्वीकार्य हो।

कॉर्पोरेट सबसे बड़ा खलनायक : वहीं दैनिक जागरण मुजफ़्फ़रपुर के अख़्लाक ने सवाल उठाया कि हम उन्हें अपनी तरह से क्यूं नहीं देखते। उनकी परंपराओं को देखते हुए ही सरकारी योजनाओं का निर्माण होना चाहिए। उनके उत्थान में कॉर्पोरेट सबसे बड़ा खलनायक है। इस खलनायक का उद्देश्य आदिवासी समाज से जल-जंगल-ज़मीन छीनना है।

राजनीतिक मुद्दा बनाने की ज़रूरत : दूसरी दिन चिन्मय मिश्र की पुस्तक 'प्रलय से टकराते समाज और संस्कृति' का विमोचन किया गया। आयोजन के मूल विषय पर मुख्य वक्तव्य, पत्रकारिता प्राध्यापक आनंद प्रधान ने दिया। उन्होंने कहा कि मुख्यधारा के मीडिया में लोकतांत्रिक घाटा (डेमोक्रेटिक डेफिसिट) दिखाई देता है। आज यदि मीडिया में आपकी चर्चा नहीं है, तो आप दुनिया के लिए अनदेखे हैं। यह भी महत्वपूर्ण है कि आपको कवरेज मिलता भी है, तो किस दृष्टिकोण से व कितना। मीडिया में आदिवासियों की भागीदारी पर सवाल उठना चाहिए। इसे लोकतांत्रिक दायरे में रखते हुए राजनीतिक मुद्दा बनाने की ज़रूरत है।

संपादक नाम की संस्था तिरोहित हो रही है : अयोध्या से आए वरिष्ठ पत्रकार, शीतलाजी ने भी सवाल उठाया कि यह महत्वपूर्ण है कि हम निर्णायक स्थिति किसके हाथ में देना चाहते हैं। दु:खद है कि संपादक नाम की संस्था तिरोहित होकर मीडिया होती जा रही है। जब तक मीडिया की आर्थिक स्वतंत्रता नहीं होगी, मीडिया का वर्तमान स्वरूप बदलना मुश्किल होगा।



मीडिया की दुनिया को एक रॉबिनहुड चाहिए : न्यूज़ पोर्टल, वेबदुनिया के संपादक जयदीप कर्णिक ने स्पष्ट किया कि हम भी मीडिया के आदिवासी हैं। कॉर्पोरेट ने हमें भी मीडिया में आदिवासी बनाकर रखा है। आज बुरी व ख़राब चीज़ें ज़्यादा हाईलाइट हो रही हैं, जबकि अच्छी चीज़ें कम। दरअसल, पत्रकारिता में नदियों की तरह कैचमेंट एरिया ख़त्म हो गया है। आजकल शॉपिंग मॉल में ख़रीदारी और ऑडी कारें ही विकास की परिभाषा कहलाती हैं। हमें विचार की ताकत को मज़बूत करना होगा। अब मीडिया की दुनिया को एक रॉबिनहुड चाहिए।

स्टोरी करते समय सजग रहें पत्रकार : अंग्रेजी पत्रकारिता के प्रतिनिधि के रूप में जयदीप हार्डिकर ने भी कई महत्वपूर्ण बातें कहीं। उन्होंने, कहा कि 'ह्यूमन इज़ ए हिपोक्रेट एनिमल'। तथाकथित सभ्य समाज को घेरते हुए उन्होंने कहा कि आज परिवार में ही कोई किसी का कहना नहीं मानता, लेकिन मेंढ़ा लेखा गांव का आदिवासी समाज, तब तक कोई फैसला नहीं लेता, जब तक कि सब मिलकर कोई निर्णय न ले लें। उन पर स्टोरी करते समय एक पत्रकार को हमेशा ध्यान रखना चाहिए कि मैं ख़ुद उस स्टोरी का हिस्सा हूं, या कोई बाहरी व्यक्ति। पत्रकारिता में 5 डब्ल्यू और 1 एच का सिद्धांत पढ़ाया जाता है। इसमें हमें डब्ल्यू वाले 'हूम' पर अधिक ध्यान देने की ज़रूरत है। हम कभी न भूलें कि 'जर्नलिज़्म फॉर हूम एंड जर्नलिज़्म फॉर वट'।

ख़ास मौकों पर हिन्दी पत्रकारिता हिन्दू हो जाती है : राज्यसभा टीवी के पूर्व कार्यकारी संपादक उर्मिलेश ने कहा कि राजेंद्र माथुर, प्रभाष जोशी का समय पत्रकारिता का स्वर्णिम काल था। हालांकि सवाल उस समय भी थे। उन्होंने इस बात को सिरे से खारिज किया कि 'साहित्य समाज का दर्पण है।' पत्रकार रिपोर्टिंग के लिए जाते हैं, तो अलग होते हैं और ख़बर बनाते वक़्त अलग। हम प्रक्रिया का हिस्सा ज़रूर बने रहें लेकिन ख़बर हमेशा उद्देश्यपूर्ण व डिटेच (अलग) होकर ही लिखें। एक और सवाल उन्होंने उठाया कि हिन्दी पत्रकारिता ख़ास मौकों पर हिन्दू पत्रकारिता बन जाती है। हमारे शब्द व कर्म बिल्कुल अलग-अलग हैं। शब्द और कर्म की एकता चाहिए।

जयराम शुक्ला, अनु आनंद, अजीत सिंह आदि ने भी संबंधित विषय पर अपने विचार रखे। अनेक पत्रकार साथियों ने हस्तक्षेप के रूप में अपने सवाल रखे। तीन दिवसीय कार्यशाला समाप्त होते-होते कई सवालों के जवाब दे गई और कई प्रश्न अनुत्तरित भी रह गए। जिन सवालों के जवाब नहीं मिले, वो सवाल सुलगते हुए अपने पीछे एक चिंगारी ज़रूर छोड़ गए। देखना होगा कि सवालों से उठी ये चिंगारी समाज के लिए उजाला साबित होती है या कर डालती है उम्मीदों को ख़ाक।

यदि आपके पास भी मीडिया जगत से संबंधित कोई समाचार या फिर आलेख हो तो हमें jansattaexp@gmail.com पर य़ा फिर फोन नंबर 9650258033 पर बता सकते हैं। हम आपकी पहचान हमेशा गुप्त रखेंगे। - संपादक

Your Comment

Latest News इमरजेंसी पर रिपोर्टिंग कर रहे दो भारतीय पत्रकार गिरफ्तार वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री मुजफ्फर हुसैन का मुंबई में निधन पत्रकार ज्योतिर्मय डे हत्या मामले में राजन ने कहा, मुझे फंसाया गया वरिष्ठ पत्रकार वेदप्रकाश शर्मा का निधन इन चार पत्रकारों ने कहा, कम कर दो सेलरी पत्रकार हत्याकांड : सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट दायर करने के लिए सीबीआई को दिया दो हफ्ते का वक्त वरिष्ठ पत्रकार शेखर त्रिपाठी का निधन IFWJ expresses shock over NDTV’s move of retrenching employees Zee Media launches a new channel 680 FM चैनलों की नीलामी को मंजूरी वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार को.रामनाथ गोयनका पुरस्कार छत्तीसगढ़ ने गिरफ्तार किए सबसे ज्यादा पत्रकार पत्रकार राजेश श्योराण की हत्या की जांच एसआईटी को पत्रकार की पिटाई के मामले में कोतवाल निलम्बित वसूली के आरोप में कथित पत्रकार गिरफ्तार पंजाब में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां की हत्या सड़क हादसे में टीवी चैनल के संवाददाता और कैमरामैन की मौत एनडीटीवी ने की आधिकारिक घोषणा, 'चैनल बिकने की खबर कोरी अफवाह' एशियानेट टीवी के कार्यालय पर हमला, संपादक और रिपोर्टर बाल-बाल बचे खबर लिखने के कारण हुई थी पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या : सीबीआई पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या, पीछे से हमला किया, अगवा किया, चाकू से मार डाला एनडीटीवी के मालिक होंगे स्‍पाइजेट के अजय सिंह आईनेक्स्ट को मनीष कुमार ने कहा अलविदा पत्रकार गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्या समाचार TODAY को चाहिए स्क्रिप्ट राइटर/कॉपी एडिटर दबंग दुनिया जबलपुर में मची भागमभाग और अफरा तफरी अब फिल्मिनिज्म डॉट कॉम पर पढिये फिल्मी दुनिया की ताजातरीन खबरें और गॉसिप्स मैक्सिको में एक और पत्रकार की हिंसाग्रस्त राज्य वेराक्रूज में गोली मारकर हत्या ‘लॉस एंजिलिस टाइम्स’ से कईयों की छुट्टी फर्जी पत्रकार बन करता था ठगी, धरा गया पत्रकार के निधन पर शोक सभा पत्रकार पंकज खन्ना आत्महत्या मामला- गुज्जर के बाद सह आरोपियों की सजा भी सस्पैंड पत्रकार शोभा डे ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का मजाक उड़ाया अडानी समूह की कंपनी ने की 1500 करोड़ की हेराफेरी और टैक्‍स चोरी पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में सीबीआइ के आवेदन को कोर्ट ने किया खारिज वरिष्ठ पत्रकार गोपाल असावा का ह्दयाघात से निधन मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला आपके हक में 19 जून को आएगा मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला लुधियाना प्रैस क्लब के चुनाव 25 जून को भास्कर दिल्ली में अगस्त तक, यूपी में भी इंट्री न्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर ने लगाया शादी करने का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप विभूति रस्तोगी को ढूंढ रही है पुलिस, बलात्कार का है आरोप दैनिक जागरण के वरिष्ठ समाचार संपादक राजू मिश्र को रेड इंक अवॉर्ड पुणे में टीवी पत्रकार से बदसलूकी शशि थरूर मानहानि मामले में अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट का नोटिस छत्तीसगढ़ को 17 साल बाद मिला अपना दूरदर्शन चैनल दैैनिक जागरण के मीडियाकर्मी पंकज कुमार के ट्रांसफर मामले को सुप्रीमकोर्ट ने अवमानना मामले से अट मुंबई में नवभारत के 40 मीडियाकर्मियो ने बनायी यूनियन दबंग के खिलाफ कई पूर्व संपादक भी केस करने को तैयार ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता से टारगेटेड जर्नलिज्म