मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला आपके हक में19 जून को आएगा मजीठिया वेजबोर्ड का फैसलालुधियाना प्रैस क्लब के चुनाव 25 जून कोभास्कर दिल्ली में अगस्त तक, यूपी में भी इंट्रीन्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर ने लगाया शादी करने का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप विभूति रस्तोगी को ढूंढ रही है पुलिस, बलात्कार का है आरोपदैनिक जागरण के वरिष्ठ समाचार संपादक राजू मिश्र को रेड इंक अवॉर्डपुणे में टीवी पत्रकार से बदसलूकीशशि थरूर मानहानि मामले में अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट का नोटिसछत्तीसगढ़ को 17 साल बाद मिला अपना दूरदर्शन चैनलदैैनिक जागरण के मीडियाकर्मी पंकज कुमार के ट्रांसफर मामले को सुप्रीमकोर्ट ने अवमानना मामले से अटमुंबई में नवभारत के 40 मीडियाकर्मियो ने बनायी यूनियनदबंग के खिलाफ कई पूर्व संपादक भी केस करने को तैयार ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता से टारगेटेड जर्नलिज्म सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का झूठा हलफनामा, कहा-हिन्दुस्तान की दसों यूनिटों में है मजीठिया लागशशि थरूर ने अरनब गोस्वामी पर ठोका मानहानि का मुकदमामानस त्रिपाठी का लैपटाप चोर ले भागेपत्रकार राजदेव हत्याकांड में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन आरोपीमेक्सिको के दिग्गज वरिष्ठ पत्रकार की सिनालोआ में हत्याफोर्ब्स की ग्लोबल गेम चेंजर लिस्ट में मुकेश अंबानी अव्वलरिपब्लिक के साथ पोस्टर वारशशांक भापेकर को नहीं मिली जमानतअमर उजाला में कई संपादक इधर उधरजस्टिस मजीठिया वेजबोर्ड अवमानना: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी, फैसला रिजर्व रखाउज्जैन में अखबार के खिलाफ मामला दर्जटीवी चैनल के पत्रकार फैसल इकबाल को पुलिस ने जड़ा तमाचापत्रकार दिलीप मंडल हुए सम्मानितजस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड पर सुनवाई आज दैनिक जागरण के संपादक संजय गुप्त आइमा मैनेजिंग इंडिया अवार्ड से सम्मानितसुप्रीमकोर्ट में जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड की अगली सूनवाई तीन मई को रांची से शीघ्र ही न्यूजपोर्टल ‘लहरन्यूज डॉट कॉम’ की लॉचिंगदैनिक हिन्दुस्तान में प्रतिदिन मालिक का नाम न छापने का मामलाबरेली डीएलसी को हिंदुस्तान के चार शिकायतकर्ताओं की तलाशमजीठिया मामले में दैनिक जागरण के एडवोकेट अनिल दिवान का निधनऑफिस में यौन शोषण की शिकार महिला को मिलेगा बड़ी राहतवर्तमान समय में पत्रकारों को आत्म चिंतन की आवश्यकता -डॉ राजकुमार सिंह राजनीतिक पत्रिका ‘तुगलक’ के संस्थापक चो रामास्वामी का निधनसंजय कुमार ने दूरदर्शन में सहायक निदेशक समाचार का पदभार संभालारांची में पत्रकार पर जानलेवा हमले का आरोपी गिरफ्तारहिन्दुस्तान ने पत्रकारों को बना दिया मैनेजर, बिना जर्नलिस्ट के छाप रहे अख़बारबिहार में ईपीएफ या पीएफ पाने वाले पत्रकारों को पेंशनमजीठिया प्रकरण में हिंदुस्तान की सबसे बड़ी हार, लखनऊ में 16 आरसी कटने से हड़कंपहिंदुस्तान बरेली में राजेश्वर ने भी ठोंका श्रम न्यायालय में क्लेम'मीडिया की ओर देखती स्त्री' का लोकार्पणपत्रकार से बदसलूकी पर तीन पुलिसकर्मी नपेएनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार को कुलदीप नैयर सम्मानमाखनलाल में खुलेगा भाषा व संस्कृति अध्ययन विभागशिकायत वापस लेने वाले भी डीएलसी से बोले- नहीं मिल रहे है मजीठिया के लाभसंपादक संतोष तिवारी का निधन'पत्रकारिता जोश और जुनून का काम

सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का झूठा हलफनामा, कहा-हिन्दुस्तान की दसों यूनिटों में है मजीठिया लाग

देश के अन्य राज्यों में भले ही प्रिंट मीडिया के कर्मचारियों को मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक वेतनमान और एरियर न मिल रहा हो, लेकिन उत्तर प्रदेश में एचटी मीडिया कंपनी का अखबार
सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का झूठा हलफनामा, कहा-हिन्दुस्तान की दसों यूनिटों में है मजीठिया लाग
‎Nirmal Kant Shukla की रिपोर्टः देश के अन्य राज्यों में भले ही प्रिंट मीडिया के कर्मचारियों को मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक वेतनमान और एरियर न मिल रहा हो, लेकिन उत्तर प्रदेश में एचटी मीडिया कंपनी का अखबार ‘हिन्दुस्तान’ अपनी सभी यूनिटों में मजीठिया वेज बोर्ड को लागू करके सभी कर्मचारियों को इसका लाभ देकर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का पूरी तरह अनुपालन कर रहा है। भले ही यह खबर मीडिया जगत के लिए चौंकाने वाली हो, हकीकत इससे परे है, मगर उत्तर प्रदेश में तत्कालीन अखिलेश सरकार के समय बनी श्रम विभाग की रिपोर्ट तो यही दर्शा रही है।

श्रम विभाग की यह रिपोर्ट उत्तर प्रदेश की तत्कालीन श्रमायुक्त शालिनी प्रसाद ने 06 जून 2016 को सुप्रीम कोर्ट में मजीठिया वेज बोर्ड के मामले में अखबार मालिकों के विरुद्ध विचाराधीन अवमानना याचिका संख्या- 411/2014 में सुनवाई के दौरान शपथपत्र के साथ दाखिल की है, जिसके मुताबिक यूपी में सिर्फ हिन्दुस्तान अख़बार ने ही मजीठिया वेज बोर्ड को लागू कर न्यायालय के आदेश का अनुपालन किया है।

उत्तर प्रदेश में हिन्दुस्तान की कुल दस यूनिटें हैं, जिनमें 955 कर्मचारी होना दर्शाया गया है। शासन की रिपोर्ट के मुताबिक हिन्दुस्तान लखनऊ में 159, मेरठ में 75, मुरादाबाद में 68, गोरखपुर में 51, अलीगढ़ में 48, बरेली में 82, नोएडा में 224, वाराणसी में 84, इलाहाबाद में 47, कानपुर में 117 यानि कुल मिलाकर 955 कर्मचारियों को हिन्दुस्तान अखबार मजीठिया वेज बोर्ड की सिफारिशों से लाभान्वित कर रहा है।


आइए जानते हैं, श्रम विभाग के रीजनल कार्यालय के किस अधिकारी ने हिन्दुस्तान की किस यूनिट में कब जाकर जाँच-पड़ताल करके स्टेट्स रिपोर्ट तैयार की। वर्ष 2015 में 15 सितम्बर को डॉ. हरीशचंद्र ने लखनऊ, 17 सितम्बर को रामवीर गौतम ने मेरठ, 20 अगस्त को बी.पी. सिंह ने मुरादाबाद, 20 अगस्त को अमित प्रकाश सिंह ने गोरखपुर, 30 दिसंबर को एस.पी. मौर्या व एस.आर. पटेल ने अलीगढ़, 17 सितम्बर को राधेश्याम सिंह, बालेश्वर सिंह व ऊषा वाजपेयी की टीम ने नोएडा, 21 सितम्बर को आर.एल. स्वर्णकार ने वाराणसी, 04 जुलाई को एस.एन. यादव, आर.के . पाठक और अन्य तीन अधिकारियों की टीम ने इलाहाबाद, 13 अगस्त को सहायक श्रमायुक्त रवि श्रीवास्तव ने कानपुर यूनिट में जाकर पड़ताल की।


यूपी की तत्कालीन श्रमायुक्त शालिनी प्रसाद की ओर से कोर्ट में दाखिल स्टेट्स रिपोर्ट के मुताबिक यूपी के मुजफ्फरनगर का अखबार शाह टाइम्स अपने 22 और लखनऊ में इंडियन एक्सप्रेस अपने सात कर्मचारियों को मजीठिया वेज बोर्ड का लाभ दे रहा है। रिपोर्ट में यहां तक कहा गया कि शाह टाइम्स ने अपने सभी कर्मचारियों को मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक बकाया एरियर का भी भुगतान कर दिया है। अमर उजाला ने आंशिक लागू कर बकाया एरियर 48 समान किस्तों में देने का कर्मचारियों से समझौता कर लिया है। दैनिक जागरण ने 20जे के तहत वेज बोर्ड उनके संस्थान पर लागू न होना बताया।


उत्तर प्रदेश में मजीठिया वेज बोर्ड को लेकर शासन की सर्वाधिक चौंकाने वाली स्टेट्स रिपोर्ट हिन्दुस्तान समाचार पत्र की है। यही वजह है कि हिन्दुस्तान प्रबंधन सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर निश्चिंत नजर आ रहा है क्योंकि उत्तर प्रदेश का श्रम विभाग उनको पहले ही क्लीन चिट दे चुका है, वह यदि परेशान है, तो उन कर्मचारियों को लेकर है, जिन्होंने हाल ही में श्रम विभाग में मजीठिया वेज बोर्ड के मुताबिक वेतनमान और बकाया एरियर न मिलने का क्लेम ठोंक कर हिन्दुस्तान प्रबंधन की आरसी जारी करा दी हैं। हिन्दुस्तान के खिलाफ आगरा से 11 और बरेली से 3 आरसी कटने के बाद से प्रबंधन की चूलें हिली हुई हैं। बरेली में एक और आरसी कटने के कगार पर है। इसके अलावा लखनऊ के 16 कर्मचारी भी ताल ठोकर हिन्दुस्तान प्रबंधन के खिलाफ मैदान में कूद पड़े हैं।

इन आरसी के कटने से जहां एक और श्रम विभाग की हिन्दुस्तान के पक्ष में कोर्ट में दाखिल स्टेट्स रिपोर्ट झूठी साबित हो रही है, वहीं हिन्दुस्तान प्रबंधन को यदि इन क्लेमकर्ताओं को पैसा देना पड़ा, तो अन्य कर्मचारियों में जबरदस्त असंतोष फैलेगा। उस गंभीर स्थिति से निपटना प्रबंधन के लिए बेहद मुश्किल भरा होगा।

तत्कालीन श्रमायुक्त की स्टेट्स रिपोर्ट वायरल होते ही हिन्दुस्तान में अभी भी मजीठिया का लाभ मिलने की आस में नौकरी कर रहे कर्मचारियों में अब अंदर ही अंदर असंतोष बढ़ रहा है। इस खुलासे के बाद अब उनकी यह आस भी खत्म होने लगी है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने पर हिन्दुस्तान प्रबंधन उनको मजीठिया का कोई लाभ देगा।

यदि आपके पास भी मीडिया जगत से संबंधित कोई समाचार या फिर आलेख हो तो हमें jansattaexp@gmail.com पर य़ा फिर फोन नंबर 9650258033 पर बता सकते हैं। हम आपकी पहचान हमेशा गुप्त रखेंगे। - संपादक

Your Comment

Latest News मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला आपके हक में 19 जून को आएगा मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला लुधियाना प्रैस क्लब के चुनाव 25 जून को भास्कर दिल्ली में अगस्त तक, यूपी में भी इंट्री न्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर ने लगाया शादी करने का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप विभूति रस्तोगी को ढूंढ रही है पुलिस, बलात्कार का है आरोप दैनिक जागरण के वरिष्ठ समाचार संपादक राजू मिश्र को रेड इंक अवॉर्ड पुणे में टीवी पत्रकार से बदसलूकी शशि थरूर मानहानि मामले में अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट का नोटिस छत्तीसगढ़ को 17 साल बाद मिला अपना दूरदर्शन चैनल दैैनिक जागरण के मीडियाकर्मी पंकज कुमार के ट्रांसफर मामले को सुप्रीमकोर्ट ने अवमानना मामले से अट मुंबई में नवभारत के 40 मीडियाकर्मियो ने बनायी यूनियन दबंग के खिलाफ कई पूर्व संपादक भी केस करने को तैयार ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता से टारगेटेड जर्नलिज्म सुप्रीम कोर्ट में यूपी सरकार का झूठा हलफनामा, कहा-हिन्दुस्तान की दसों यूनिटों में है मजीठिया लाग शशि थरूर ने अरनब गोस्वामी पर ठोका मानहानि का मुकदमा मानस त्रिपाठी का लैपटाप चोर ले भागे पत्रकार राजदेव हत्याकांड में पूर्व सांसद शहाबुद्दीन आरोपी मेक्सिको के दिग्गज वरिष्ठ पत्रकार की सिनालोआ में हत्या फोर्ब्स की ग्लोबल गेम चेंजर लिस्ट में मुकेश अंबानी अव्वल रिपब्लिक के साथ पोस्टर वार शशांक भापेकर को नहीं मिली जमानत अमर उजाला में कई संपादक इधर उधर जस्टिस मजीठिया वेजबोर्ड अवमानना: सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई पूरी, फैसला रिजर्व रखा उज्जैन में अखबार के खिलाफ मामला दर्ज टीवी चैनल के पत्रकार फैसल इकबाल को पुलिस ने जड़ा तमाचा पत्रकार दिलीप मंडल हुए सम्मानित जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड पर सुनवाई आज दैनिक जागरण के संपादक संजय गुप्त आइमा मैनेजिंग इंडिया अवार्ड से सम्मानित सुप्रीमकोर्ट में जस्टिस मजीठिया वेज बोर्ड की अगली सूनवाई तीन मई को रांची से शीघ्र ही न्यूजपोर्टल ‘लहरन्यूज डॉट कॉम’ की लॉचिंग दैनिक हिन्दुस्तान में प्रतिदिन मालिक का नाम न छापने का मामला बरेली डीएलसी को हिंदुस्तान के चार शिकायतकर्ताओं की तलाश मजीठिया मामले में दैनिक जागरण के एडवोकेट अनिल दिवान का निधन ऑफिस में यौन शोषण की शिकार महिला को मिलेगा बड़ी राहत वर्तमान समय में पत्रकारों को आत्म चिंतन की आवश्यकता -डॉ राजकुमार सिंह राजनीतिक पत्रिका ‘तुगलक’ के संस्थापक चो रामास्वामी का निधन संजय कुमार ने दूरदर्शन में सहायक निदेशक समाचार का पदभार संभाला रांची में पत्रकार पर जानलेवा हमले का आरोपी गिरफ्तार हिन्दुस्तान ने पत्रकारों को बना दिया मैनेजर, बिना जर्नलिस्ट के छाप रहे अख़बार बिहार में ईपीएफ या पीएफ पाने वाले पत्रकारों को पेंशन मजीठिया प्रकरण में हिंदुस्तान की सबसे बड़ी हार, लखनऊ में 16 आरसी कटने से हड़कंप हिंदुस्तान बरेली में राजेश्वर ने भी ठोंका श्रम न्यायालय में क्लेम 'मीडिया की ओर देखती स्त्री' का लोकार्पण पत्रकार से बदसलूकी पर तीन पुलिसकर्मी नपे एनडीटीवी के पत्रकार रवीश कुमार को कुलदीप नैयर सम्मान माखनलाल में खुलेगा भाषा व संस्कृति अध्ययन विभाग शिकायत वापस लेने वाले भी डीएलसी से बोले- नहीं मिल रहे है मजीठिया के लाभ संपादक संतोष तिवारी का निधन 'पत्रकारिता जोश और जुनून का काम