इमरजेंसी पर रिपोर्टिंग कर रहे दो भारतीय पत्रकार गिरफ्तारवरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री मुजफ्फर हुसैन का मुंबई में निधनपत्रकार ज्योतिर्मय डे हत्या मामले में राजन ने कहा, मुझे फंसाया गयावरिष्ठ पत्रकार वेदप्रकाश शर्मा का निधनइन चार पत्रकारों ने कहा, कम कर दो सेलरीपत्रकार हत्याकांड : सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट दायर करने के लिए सीबीआई को दिया दो हफ्ते का वक्तवरिष्ठ पत्रकार शेखर त्रिपाठी का निधनIFWJ expresses shock over NDTV’s move of retrenching employeesZee Media launches a new channel680 FM चैनलों की नीलामी को मंजूरीवरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार को.रामनाथ गोयनका पुरस्कारछत्तीसगढ़ ने गिरफ्तार किए सबसे ज्यादा पत्रकारपत्रकार राजेश श्योराण की हत्या की जांच एसआईटी कोपत्रकार की पिटाई के मामले में कोतवाल निलम्बितवसूली के आरोप में कथित पत्रकार गिरफ्तारपंजाब में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां की हत्यासड़क हादसे में टीवी चैनल के संवाददाता और कैमरामैन की मौतएनडीटीवी ने की आधिकारिक घोषणा, 'चैनल बिकने की खबर कोरी अफवाह'एशियानेट टीवी के कार्यालय पर हमला, संपादक और रिपोर्टर बाल-बाल बचेखबर लिखने के कारण हुई थी पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या : सीबीआई पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या, पीछे से हमला किया, अगवा किया, चाकू से मार डालाएनडीटीवी के मालिक होंगे स्‍पाइजेट के अजय सिंहआईनेक्स्ट को मनीष कुमार ने कहा अलविदापत्रकार गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्यासमाचार TODAY को चाहिए स्क्रिप्ट राइटर/कॉपी एडिटरदबंग दुनिया जबलपुर में मची भागमभाग और अफरा तफरीअब फिल्मिनिज्म डॉट कॉम पर पढिये फिल्मी दुनिया की ताजातरीन खबरें और गॉसिप्स मैक्सिको में एक और पत्रकार की हिंसाग्रस्त राज्य वेराक्रूज में गोली मारकर हत्या ‘लॉस एंजिलिस टाइम्स’ से कईयों की छुट्टी फर्जी पत्रकार बन करता था ठगी, धरा गया पत्रकार के निधन पर शोक सभापत्रकार पंकज खन्ना आत्महत्या मामला- गुज्जर के बाद सह आरोपियों की सजा भी सस्पैंडपत्रकार शोभा डे ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का मजाक उड़ायाअडानी समूह की कंपनी ने की 1500 करोड़ की हेराफेरी और टैक्‍स चोरीपत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में सीबीआइ के आवेदन को कोर्ट ने किया खारिजवरिष्ठ पत्रकार गोपाल असावा का ह्दयाघात से निधनमजीठिया वेजबोर्ड का फैसला आपके हक में19 जून को आएगा मजीठिया वेजबोर्ड का फैसलालुधियाना प्रैस क्लब के चुनाव 25 जून कोभास्कर दिल्ली में अगस्त तक, यूपी में भी इंट्रीन्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर ने लगाया शादी करने का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप विभूति रस्तोगी को ढूंढ रही है पुलिस, बलात्कार का है आरोपदैनिक जागरण के वरिष्ठ समाचार संपादक राजू मिश्र को रेड इंक अवॉर्डपुणे में टीवी पत्रकार से बदसलूकीशशि थरूर मानहानि मामले में अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट का नोटिसछत्तीसगढ़ को 17 साल बाद मिला अपना दूरदर्शन चैनलदैैनिक जागरण के मीडियाकर्मी पंकज कुमार के ट्रांसफर मामले को सुप्रीमकोर्ट ने अवमानना मामले से अटमुंबई में नवभारत के 40 मीडियाकर्मियो ने बनायी यूनियनदबंग के खिलाफ कई पूर्व संपादक भी केस करने को तैयार ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता से टारगेटेड जर्नलिज्म

याकूब मेमन के फांसी पर सियासत

याकूब मेमन को भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने फांसी दी है और यहां तक की राष्ट्रपति द्वारा भी मेनन के याचिका को ठुकराया जा चुका था। ऐसे में अगर मेनन को फांसी की सजा होती है
याकूब मेमन के फांसी पर सियासत याकूब मेमन को भारतीय सर्वोच्च न्यायालय ने फांसी दी है और यहां तक की राष्ट्रपति द्वारा भी मेनन के याचिका को ठुकराया जा चुका था। ऐसे में अगर मेनन को फांसी की सजा होती है तो इसमें उस व्यक्ति को बोलने का कतई अधिकार नहीं जो कानून और साक्ष्य के प्रति अपरिचित हो। उच्च न्यायालय से लेकर सर्वाेच्च न्यायालय के जज जिन्होंने फांसी की सजा सुनाई उनके समक्ष समस्त प्रकार के साक्ष्य थे। मेमन का सम्पूर्ण बायोडेटा उनके समक्ष था और उसी के परिपेक्ष्य में उन्होंने उसे फांसी की सजा सुनाई। लेकिन जो लोग आधे अधूरे ज्ञान के आधार पर याकूब की फांसी पर सियासती पैतरा खेल रहे अथवा सोशल मीडियाई बयानबाजी कर रहे है उनका यह कदम भारत के लिए एक तरह से धार्मिक उन्माद को बढ़ावा दे सकता है।


यह सत्य है कि जब भारत का बँटवारा हुआ था तो समस्त मुसलमानों के लिए एक पाकिस्तान बनाकर दे दिया गया था ताकि समूचे मुसलमान पाकिस्तान नामक राष्ट्र में रह सके। लेकिन भारतीय नेताओं की वसुंधरा कुटुंबकम की भावना कहिये या दरियादिली, उन्होंने यह निर्णय किया कि बंटवारा हो जाने के बाद भी जो मुसलमान यहां रहना चाहे रह सके। यह भी सत्य है कि भारतीय उपमहाद्विप में धर्म को रौंदकर ही मुसलमान शासकों ने यहां अपने शासन की नींव रखी थी और तलवारों की नोंक पर हिन्दुओं के गले काटकर उन्हे जबरन मुस्लिम बनाया साथ ही बलात्कार, अत्याचार आदि आम रहें। आज जो मुसलमान हिन्दुस्तान में है उनमें अधिकांश मुसलमान तलवार की नोक पर बने हैं। हां तो जब बँटवारा हो गया उसके बाद भी मुसलमानों को यहां रखने की ईजाजत दे दी गई तो ज्यादातर मुसलमान यहां रूक गये। 1951 की जनगणना के अनुसार भारत में मुसलमानों की जनसंख्या 3.6 करोड़, 1961 में 4.7 करोड़, 1971 में 6.2 करोड़, 1981 में 7.7 करोड़, 1991 में 10.2 करोड़, 2001 में 13.1 करोड़, और 2011 की जनगणना के अनुसार 18.0 करोड़ से अधिक जनसंख्या हो गई जोकि राजनीतिक परिदृश्य में महत्वपूर्ण भूमिका आदा करता है। वहीं 1947 में पाकिस्तान में 45 लाख हिन्दू थे एवं 2001 आते आते उनकी जनसंख्या 2 लाख तक पहुंच गई। इससे स्वतः अंदाजा लगाया जा सकता है कि किसी धर्म द्वारा क्या किया गया और किया जा रहा है? हिन्दू और मुस्लिम के मध्य सहरहिता का अंदाजा इससे स्वतः लगाया जा सकता है।


यह सत्य है मुस्लिम आक्रांताओं द्वारा समय समय पर मुस्लिम धर्म के विरोध होने पर जवाबी कारवाई किये जाते रहे है। जैसे कि बाॅम्ब ब्लास्ट से लेकर हत्या आगजनी। ऐसे में देश के कुछ लोगों के मन में भय या ओशों टाईप विचारधारा या वसुधैव कुटुंबकम टाइप की भावना घर कर गयी। ऐसे लोगों में इसी विचारधारा स्वरूप सेकुलराईस का वायरस लग गया जो किसी प्रयोजन के लिए शुरुआत तो सत्यनरायण भगवान पूजा से करते लेकिन भावनायें उनकी दोहरी थी। शायद ऐसे लोग सामने से मुस्लिम के निशाने पर नहीं आना चाहते थे। इनके अंतर्निहित में हत्या, बम्ब बलास्ट सरीखी कोई डर था या ये धार्मिक भावना के मध्य ऐसा कर रहे थे ये तो यही जाने लेकिन ऐसे में वे मुस्लिमों के प्रति कुछ भी बोलने से कतराने लगे और मुस्लिम पक्षकारिता के एक तरह से नपुसंक हिन्दू पोषक हो गये। ऐसा इसीलिए भी था कि वे अपने जीवन में खतरों का मोल न लेकर एक तरह की अहिंसावादी रास्ते को अपनाने को ज्यादा तरजीह देना ही उचित समझने लगे। ऐसे डरपोक, नपुंसक और धार्मिक लेखकों की जनसंख्या अच्छे माने जाने वाले विचारकों, पत्रकारों, सम्पादकों में हैं। इतिहास साक्षी है दुनिया बहादुरों को सलाम करती है। इस्लाम को इसलिए भी ज्यादातर सलाम किया गया क्योंकि इस्लाम के पास वह बहादुरी थी जोकि हिन्दू क्षत्रियों समेत हिन्दू वीरों द्वारा खो दी गई थी अथवा वे इनसे हार मान गये थे।



उसके बाद की कहानी सबको पता है जोकि लोकतंत्र में अकसर होता है। वोट बैंक की राजनीति। कांग्रेस ने सत्ता में बने रहने के लिए मुस्लिम पत्ते को बखूबी खेला। चाहे वह शाह बानो मामला हो अथवा राम मंदिर का ताला खुलवाना। लेकिन यह दोनो ही मामले राजीव गांधी के लिए घाटे के सौदे साबित हुये और तीसपर बफोर्स तोप ने उनको औंधे मुंह गिरने पर विवश कर दिया। कांग्रेस के बाद फिर बाद में इसे भूनाया बीजेपी ने। बाबरी मस्जिद विध्वंश ने बीजेपी को राष्ट्रीय पार्टी बनाकर रख दिया। हालांकि लालकृष्ण आडवानी के दोहरे चरित्र ने भारतीय हिन्दू जनमानस के मानस पटल दोहरापन दिखाकर एक तरह से बीजेपी के पतन का परचम फहराया जिसका घोर विरोध संघ मुख पत्र सहित बीजेपी मुख पत्र द्वारा किया गया। लेकिन अंततः बीजेपी को यह समझ में आ गया था कि बिना धार्मिक मामले को तूल दिये न तो चुनाव जीता जा सकता है और न ही सत्ता पाई जा सकती है। इसी क्रम में बीजेपी ने गोधरा कांड से अंतराष्ट्रीय फलक पर चमके कट्टर हिन्दू चेहरे नरेन्द्र मोदी को आगामी चुनावों में उतारने का फैसला लिया। दूसरी तरफ देश में हिन्दू मुस्लिम की खाईं बढ़ती जा रही थी। गोधरा कांड से नाराज मुसलमान जितना ही विरोध नरेन्द्र दामोदर दास मोदी का कर रहा था उतनी ही सदभावना नरेन्द्र मोदी के लिए हिन्दूओं में बढ़ती जा रही थी। चुनाव होने से पहले समूचे देश में नरेन्द्र मोदी के प्रति हिन्दुओं में एक तरह से कट्टर हिन्दू की छवि उभरती जा रही थी। ईधर उतनी ही तीव्र गति से मुसलमान भी नरेन्द्र मोदी विरोधी बयान देते जा रहे थे। इन्हीं विरोधाभाषों के मध्य समेकित रूप में मोदी सरकार अंततः सत्ता में आने में सफल रही।




अब आगामी बिहार विधानसभा चुनाव से पहले मोदी सरकार ने फिर पत्ता खेला है। याकूब मेमन की फांसी का। और शायद बीजेपी इस पत्ते पर सत्ता हथिया भी लेगी। मेमन की फांसी का जितना विरोध सेकुलर और मुस्लिम समुदाय द्वारा किया जा रहा है उतना ही पक्षकारिता लगभग हिन्दू पक्ष द्वारा किया जा रहा है। ऐसे में अगर जनसंख्या अनुपात को देखा जाये और कुछ प्रतिशत हिन्दू वोट भी अगर बीजेपी पर आकर्षित हो जाता है तब बीजेपी को सत्ता में आने से रोकना एक तरह से दुरूह हो जायेगा। बीजेपी लोकसभा चुनावों से एक तरह का सबक ले चुकी है कि धार्मिक उन्माद फैलाकर ही भारत में सत्ता हथियाया जा सकता है और लगभग अन्य सभी पार्टियां इसी फार्मूले को अपनाती रहीं है। ऐसे में याकूब मेमन की फांसी करवाकर बीजेपी ने नया सियासी दांव खेला है और इसका भरपुर फायदा बीजेपी को बिहार विधानसभा चुनावों में होने जा रहा है। कयास तो यह भी लगाये जा रहे है कि बिहार विधानसभा चुनाव आने से पहले बीजेपी राम मंदिर मुद्दा समेत अन्य किसी की फांसी के मुद्दे को तूल देकर धार्मिक पोलराइजेशन का फायदा उठा सकती है।



भारत में रह रहे मुसलमानों को अंतर्राष्ट्र्रीय संस्थाओं तथा धार्मिक सियासतों द्वारा जिस प्रकार दिग्भ्रमित किया जा रहा है और जिस प्रकार से ये अपने राष्ट्र के अस्तित्ववाद को दरकिनार कर धार्मिक पक्षकारिता की ओर बढ़ रहे है ऐसे में हिन्दू धर्म के मानने वालों के मध्य एक प्रकार का असंतोष फैल रहा है और इसका फायदा भारत के सियासती लोग उठा रहे है।
लेखक विकास कुमार गुप्ता, पीन्यूजडाटइन के सम्पादक है इनसे 9451135000, 9451135555 पर सम्पर्क किया जा सकता है।

यदि आपके पास भी मीडिया जगत से संबंधित कोई समाचार या फिर आलेख हो तो हमें jansattaexp@gmail.com पर य़ा फिर फोन नंबर 9650258033 पर बता सकते हैं। हम आपकी पहचान हमेशा गुप्त रखेंगे। - संपादक

Your Comment

Latest News इमरजेंसी पर रिपोर्टिंग कर रहे दो भारतीय पत्रकार गिरफ्तार वरिष्ठ पत्रकार पद्मश्री मुजफ्फर हुसैन का मुंबई में निधन पत्रकार ज्योतिर्मय डे हत्या मामले में राजन ने कहा, मुझे फंसाया गया वरिष्ठ पत्रकार वेदप्रकाश शर्मा का निधन इन चार पत्रकारों ने कहा, कम कर दो सेलरी पत्रकार हत्याकांड : सुप्रीम कोर्ट ने रिपोर्ट दायर करने के लिए सीबीआई को दिया दो हफ्ते का वक्त वरिष्ठ पत्रकार शेखर त्रिपाठी का निधन IFWJ expresses shock over NDTV’s move of retrenching employees Zee Media launches a new channel 680 FM चैनलों की नीलामी को मंजूरी वरिष्ठ पत्रकार रवीश कुमार को.रामनाथ गोयनका पुरस्कार छत्तीसगढ़ ने गिरफ्तार किए सबसे ज्यादा पत्रकार पत्रकार राजेश श्योराण की हत्या की जांच एसआईटी को पत्रकार की पिटाई के मामले में कोतवाल निलम्बित वसूली के आरोप में कथित पत्रकार गिरफ्तार पंजाब में वरिष्ठ पत्रकार और उनकी मां की हत्या सड़क हादसे में टीवी चैनल के संवाददाता और कैमरामैन की मौत एनडीटीवी ने की आधिकारिक घोषणा, 'चैनल बिकने की खबर कोरी अफवाह' एशियानेट टीवी के कार्यालय पर हमला, संपादक और रिपोर्टर बाल-बाल बचे खबर लिखने के कारण हुई थी पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या : सीबीआई पत्रकार शांतनु भौमिक की हत्या, पीछे से हमला किया, अगवा किया, चाकू से मार डाला एनडीटीवी के मालिक होंगे स्‍पाइजेट के अजय सिंह आईनेक्स्ट को मनीष कुमार ने कहा अलविदा पत्रकार गौरी लंकेश की गोली मारकर हत्या समाचार TODAY को चाहिए स्क्रिप्ट राइटर/कॉपी एडिटर दबंग दुनिया जबलपुर में मची भागमभाग और अफरा तफरी अब फिल्मिनिज्म डॉट कॉम पर पढिये फिल्मी दुनिया की ताजातरीन खबरें और गॉसिप्स मैक्सिको में एक और पत्रकार की हिंसाग्रस्त राज्य वेराक्रूज में गोली मारकर हत्या ‘लॉस एंजिलिस टाइम्स’ से कईयों की छुट्टी फर्जी पत्रकार बन करता था ठगी, धरा गया पत्रकार के निधन पर शोक सभा पत्रकार पंकज खन्ना आत्महत्या मामला- गुज्जर के बाद सह आरोपियों की सजा भी सस्पैंड पत्रकार शोभा डे ने कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी का मजाक उड़ाया अडानी समूह की कंपनी ने की 1500 करोड़ की हेराफेरी और टैक्‍स चोरी पत्रकार राजदेव रंजन हत्याकांड में सीबीआइ के आवेदन को कोर्ट ने किया खारिज वरिष्ठ पत्रकार गोपाल असावा का ह्दयाघात से निधन मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला आपके हक में 19 जून को आएगा मजीठिया वेजबोर्ड का फैसला लुधियाना प्रैस क्लब के चुनाव 25 जून को भास्कर दिल्ली में अगस्त तक, यूपी में भी इंट्री न्यूज चैनल की महिला रिपोर्टर ने लगाया शादी करने का झांसा देकर शारीरिक संबंध बनाने का आरोप विभूति रस्तोगी को ढूंढ रही है पुलिस, बलात्कार का है आरोप दैनिक जागरण के वरिष्ठ समाचार संपादक राजू मिश्र को रेड इंक अवॉर्ड पुणे में टीवी पत्रकार से बदसलूकी शशि थरूर मानहानि मामले में अर्नब गोस्वामी को हाईकोर्ट का नोटिस छत्तीसगढ़ को 17 साल बाद मिला अपना दूरदर्शन चैनल दैैनिक जागरण के मीडियाकर्मी पंकज कुमार के ट्रांसफर मामले को सुप्रीमकोर्ट ने अवमानना मामले से अट मुंबई में नवभारत के 40 मीडियाकर्मियो ने बनायी यूनियन दबंग के खिलाफ कई पूर्व संपादक भी केस करने को तैयार ध्येयनिष्ठ पत्रकारिता से टारगेटेड जर्नलिज्म